सुरेन्द्रजी, तपाईँ नै थारुको सिके राउत बन्ने कि?

सन्जय चौधरी थारु।

थारुवान डटकममार्फत् तपाईँको ‘सीके राउतलाई थारुहरुले ज्वाइन गरे हुन्छ’ शीर्षक अन्तर्वार्ता पढेँ। अन्तर्वार्ता पढेर केही नलेखी बस्न सकिएन।
थारुले थरुहट आन्दोलन आफ्नो पहिचान र अधिकारको लागि गरेको थियो, मधेसी बन्न हैन। म मान्छु कि तपाईँ थरुहट आन्दोलनदेखि सक्रिए हुनुहुन्छ। जतिबेला म फलामेढोका पनि पार गरेको थिइनँ। अहिले पनि तपाईँ विशेषज्ञ हुनुहुन्छ, म स्नातक अध्यनरत विद्यार्थी।
तपाईँको अन्तर्वार्ता पढ्दा तपाईँको अध्ययन अपुरोजस्तो लाग्यो। हुन त म पश्चिम कैलाली-कंचनपुरमा जन्मे/हुर्केको होइन, तर थारुलाइ गर्ने अखण्डे पाखण्डे प्रवृतिको विरोध गर्छु। मेरा कोही पुर्खा कहिल्यै कमैया, हरूवा,  चरुवा बसेका छैनन्, न मेरो आमा र दिदिबहिनी नै कमलरी बसेको छ। तर पश्चिम तराईका थारुले भोग्ने ती समस्या कमैया, कमलरी, हरूवा, चरुवा आफ्नैजस्तो लाग्छ। ती थारु दाजुभाइ, आमा बहिनी आफ्नैजस्तो लाग्छ। आफ्नै मान्छेले भोगेजस्तो लाग्छ। उनीहरुको अधिकार र हकको लागि लड्न पनि एक कदम अगाडि हुन्छु। थारुमाथि हेपुवा प्रवृति र सोच राख्ने पहाडीको पनि विरोध गर्छु।
Sanjay Chaudharyसन्दर्भ थारुले सिके राउतको पछि लाग्नुपर्ने या जोइन गर्ने कुराको चाहिँ विरोध गर्छु। फेरि फर्कौ थरुहट आन्दोलनबाट, म मान्छु कि तपाईँ थारु आन्दोलनदेखि नै लागेको मान्छे। थरुहट आन्दोलन मेरा अग्रजले लडेका थिए। त्यसबखत स्थानीय थरुहट आन्दोलनकर्मीलाई मधेसीले घेरेर आन्दोलन तुहाउन लागेका थिए। यो घटना मेरो गृह जिल्ला सिरहामा मात्र भएको थिएन, यस्तो घटना मधेसीबाट सप्तरीदेखि पर्सासम्म थारुले फेस गरेका थिए। अझ सप्तरीमा झडप नै भएको थियो। सिरहामा पनि त्यस्तै स्थित थियो।
मैले मधेसीको विरोध गरिरहँदा तपाईँलाई लाग्न सक्ला, कतै म पहाडीबाट उस्काएको हो कि? तर यथार्थ कुरा म पहाडीको पनि विरोध गर्छु जो थरुहट आन्दोलनविरुद्ध पश्चिम तराईमा लागेको थियो। तपाईँ एकतर्फी अध्ययन गरेर मधेसीसित मिल्नुपर्ने भन्नुहुन्छ? तर मधेसीले थारुलाई हेर्ने नजरियाबारे अध्यन कम भयो। यहाँ त थारुलाई चुनावमा जसरी नि हराउनुपर्छ, अभियान नै चल्छ। अब कसरी विश्वास गर्ने कि सिके राउतको मधेस देशमा हामी सुरक्षित रहन्छौं?
थारुले थरुहट आन्दोलन आफूलाई मधेसीकरणविरुद्ध पनि गरेको हो। अब सिके राउतको पछि लागेर आफैँ मधेसीकरण हुने। त्यसमा पनि सिके राउत यस्तो ब्यक्ति जसले थारु भाषा, परमपरा, पहिरन सबै मधेसीको हो, थारुको केही छैन भन्ने मान्छे? अब सिके राउतको पछि लागेर फेरि आफ्नो पहिचान आफैँ मधेसीकरण गर्ने? जब हाम्रो पहिचान नै रहँदैन भने अधिकार लिएर के गर्ने? फेरि अधिकार पाइन्छ नै भन्ने के ग्यारेन्टी छ? बरु पहिचान नपाउम तर नमेटियोस पनि। न परिवर्तन होस्। बरु अधिकार हामीले पाउनुपर्छ। यसका लागि हामी लड्नुपर्छ।
तराईमा सिके राउत छ तर त्यो मधेसीको सिके राउत हो। कि थारुमा सिके राउत जन्मियोस् या तपाईँलाई सिके राउतको बाटो सही लाग्छ भने तपाईं नै थारुको सिके राउत बन्नुस् थारु युवाहरुको समर्थन रहनेछ। तर हाम्रो पहिचान नै नस्वीकार्नेको पछि लागिँदैन।
तपाईँलाई के अधारमा सिके राउत राम्रो लाग्यो त्यही अधारमा थारुको मुदा उठाउनुस्। थारुलाई त्यो अधारबारे बुझाउनुस्। तर याद रहोस् पहाड र थारु दुबैले सिके राउत जन्माउन सक्दैन। त्यसको विचारजस्तो राख्ने भेटिएला तर उसकोजस्तो उचाइँ पाउन भारतको आन्तरिक साथ र अमेरिकाको डलर चाहिन्छ। चेतना भया!

3 thoughts on “सुरेन्द्रजी, तपाईँ नै थारुको सिके राउत बन्ने कि?

  1. हामीले CK Raut लाई किन हिरो वनाईरहेका छौं ? को हुन CK? वस एक जना राम्रो पढेलेअेका विद्वान, PHD holder Dr. हुन सक्छ, उसले जिवनमा विभेद भोगेका होलान, खेखेका होलान र अाज अाएर उसले म मधेशीको मसिहा हुँ भन्ने नैतिक अाधार देखिदैन । तसर्थ तराईको हक अधिकारको लागि थारूको नेतृत्व अावश्यक हो । हामी नेतृत्व गर्न सक्छौं र गर्छौं । थारूको feelings लाई अन्य कुनै जातजातिका नेताले वुझ्न सक्दैन् । हामीले भोगिसकेका छौं देखिसकेका छौं । थरूहट भित्र सवै अटाउन सक्छ, तर थारूलाई कसैले ठाउँ दिन सक्दैन । हामीलाई नमिल्ने जात भन्छन्, तर हमीमा सबै अटाएका छन्,समृद्घ भएका छन् । तसर्थ थरूहटको नेतृत्वको विक्प छैन् ? थारू नेतृत्व जन्माअौं, सवैलाई त्यस भित्र ल्याअौं ।। नकि हामी कसैमा विलिन हुने ? हामीले स्वीकारेका छौं, सवैलाई space दिएका छौं । तसर्थ थरूहट भनेको विशाल भूगोल हो, संस्कृति हो, भाषा हो, राजनीति हो, यसलाई थारू वाहेक कसैले वुझ्न सक्दैन ?? थरूहट नेतृत्व जन्माअौं ?? न कि CK Raut.

  2. सञ्जय थारुको शरीर र मन मौलिक थारुवान रक्तले सिञ्चित छ। कोटी कोटी सलाम छ त्यो मातापितालाई जसले सञ्जय भाइ जस्तो छोरो पाउनु भएको छ। ईश्वरले महाभारतको सञ्जयको दोस्रो अवतार हाम्रो बुद्धभुमि /थरुहटमा थारुको कोखबाट जन्माउनु भएको छ।

  3. २७. फूट डालो, राज करो

    जि:
    अच्छा। मधेशियों को गुलाम बनाए रखने के लिए और किस तरह के चाल चलते हैं नेपाली शासक?

    डॉ:
    ‘डिभायड एंड रूल’ यानि ‘फूट डालो और राज करो’—यह बहुत ही पुरानी और प्रभावकारी रणनीति रही है, शासकों के लिए। और मधेशियों पर राज करने के लिए नेपाली शासक इसे बार-बार उपयोग करते रहते हैं। कभी किसी को मिथिला राज्य के नाम पर उछाल देते हैं, तो कभी किसी को थरूहट के नाम पर।

    और यह विभाजन भी नेपाली मीडिया, टीवी चैनल, पत्र-पत्रिकाओं और बुद्धिजीवियों द्वारा फैलाया गया प्रोपागाण्डा है। बहुत ही कम गिने-चुने थारू नेता हैं जो नेपाली शासकवर्ग की बातों पर झुकाव डाले हुए हैं, पर उन्हें मीडिया में जगह दी जाती है, उनसे व्यापक प्रचार-प्रसार कराया जाता है। पर धीरे-धीरे ही सही, उन थारू नेताओं को भी यह बात अब साफ ही हो गई है। जिस समय अखण्ड सुदूरपश्चिम आन्दोलन हुआ, उन नेताओं को समझ में आ गया कि मामला क्या है। थारू लोगों पर हप्तों तक जिस तरह से नेपाली लोग, पुलिस और प्रशासन के आड़ पर, आक्रमण करते रहे, जिस तरह से नेपाली मीडिया और मानवअधिकार संस्थाएँ थारुओं पर होते रहे आक्रमणों को अनदेखा करती रहीं, जिस तरह से थारू संग्रहालय में आग लगा दी गई, जिस तरह से थारू नेताओं को अस्पताल में घूसकर नेपाली पुलिस ने पिटाई की, उससे उन्हें बहुत कुछ ज्ञात हो गया। थारू लोग बहुत हद तक ये भूल गए थे कि उनकी जमीन छीनकर उन्हें अपनी ही भूमि पर कमैया, कमलरी और दास बनाने वाले वही नेपाली लोग थे, पर उस घटना ने उन्हें बहुत कुछ समझा दिया।

    जि:
    पर शासकवर्ग थारू को मधेशियों से अलग साबित करने की कोशिस करते हैं, उसका क्या?

    डॉ:
    देखिए सत्य को भला कौन मिटा सकता है? थारू लोग सदैव मधेश के गौरवशाली सपूत रहे हैं। किसी के कहने से क्या होता है? कहने के लिए तो कोई मुझे ककशियन (गोरा यूरोपियन) कह देगा, तो क्या मैं ककशियन हो जाऊँगा? जो सच है, वह है।

    थारुओं की उत्पत्ति की बात करते हैं तो थारू विद्वानों ने अनेक सिद्धान्त दिए हैं। थारू लोग स्वयं को इक्ष्वाकु वंश के होने की बात मानते हैं, अर्थात् थारू लोग मध्यदेश के राजा ओकाका और ओकाकामुखा के वंशज होने का दावा करते हैं। वे बुद्ध और सम्राट अशोक को थारुओं की संतान मानते हैं। अब बुद्ध खुद अपना जन्म ‘मज्झिमदेश’ अर्थात् मधेश में होने की बात बताते हैं, और अशोक मगधदेश का सम्राट ठहरे। तो उस हिसाब से तो थारू मधेशी हो ही गए। उसी तरह कुछ विद्वान थारुओं की उत्पत्ति ‘थार’ मरूभूमि या राजस्थान से होने की बात करते हैं, जो कि बृहत् मध्यदेश में ही आते हैं। इस तरह से हर सिद्धान्त के अनुसार थारुओं की उत्पत्ति मध्यदेश अर्थात् मधेश से जुड़ी है, तो वे मधेशी कैसे नहीं हुए? भौगोलिक रूप में वे मधेश में रहते आए हैं, नेपाल में तो पिछले १५०–२०० वर्ष पहले न आए? आखिर बाँके, बर्दिया, कैलाली और कंचनपुर जिले तो १५० वर्ष पहले तक भी अवध के अधीन में ही थे। तो भौगोलिक आधार पर भी वे मधेशी ही हुए। उनकी भाषा मध्यदेशीय भाषा मैथिली, भोजपुरी, अवधि आदि के समीप है। उनके पर्व-त्यौहारों में जितिया, सामाचकेवा, माघी (नेमान), डिहिबारपूजा और होरी जैसे पर्व आते हैं। उनके पहनावे में धोती या साड़ी-ब्लाउज आते हैं। उनके गर-गहने में हसुली और पाइठ जैसी चीजें आती हैं। उनके खानपान में भूसवा, बगिया और घोंघी जैसे अनुपम मधेशी परिकार आते हैं। उनकी कला संस्कृति में मोख, माइट, चका, फुल-बुट्टा, कोठी, जबरा आदि आते हैं। तो हर हिसाब से—ऐतिहासिक, भौगोलिक, भाषिक, सांस्कृतिक (घर, पहनावा, खाना-पीना, रहनसहन, गर-गहना, पर्व-त्यौहार) आधार पर—वे मधेशी ही हुए न? आज नेपालियों की गुलामी करने की मानसिकता वाले कुछ एनजीओकर्मिओं के कहने से क्या होता है? इतिहास के पन्ने पलटाकर देखिए, थारू लोग मधेश के लिए अपनी जान निछावर करते आए हैं, अपना खून देते आए हैं।

    मैं तो बस यही कहुँगा, थारू के विषय में हो या अन्य किसी के विषय में, नेपाली शासक या उनके पुतला बने एक-दो लोगों की बातों से हमें नहीं बहकना चाहिए, आखिर रामवरण यादव जैसे लोग हर जगह, हर समुदाय में निकलते रहेंगे। हमें नेपाली शासकों की ‘फूट डालो और राज करो’ नीति को पहचान करके सावधान रहना चाहिए।
    https://ckraut.wordpress.com/pub/swaraj/#18

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *